10वीं फेल एक कूरियर ब्वॉय ने अपनी कंपनी को 1.3 करोड़ रुपये का चूना लगाया है. आरोप है कि उसने कंपनी द्वारा दिए गए डिजिटल टैब के जरिए कार्ड से किए गए पेमेंट में धांधली करते हुए ये घपला किया है. फरवरी महीने में होने वाली कंपनी की ऑडिट में इस पूरे मामले की जानकारी मिली है. मामला ऑनलाइन शॉपिंग कंपनी अमेजन का है. कंपनी के एक सीनियर मैनजर की शिकायत पर पुलिस ने कार्रवाई करते हुए आरोपी सहित चार लोगों को गिरफ्तार किया है. वहीं, उसे मिले डिजिटल टैब को फोरेंसिक जांच के लिए भेज दिया है.

फाल्स पेमेंट करता था जनरेट

आरोपी का नाम दर्शन उर्फ ध्रुव है. 25 साल का दर्शन एकदंत कूरियर कंपनी में काम करता था. अमेजन के लिए वह चिकमगलौर में प्रोडक्ट्स के डिलिवरी का काम करता था. आरोप है कि उसके दोस्त महंगे-महंगे सामान ऑर्डर करते थे और उसकी वास्तवीक कीमत नहीं चुकाते थे. इस दौरान वे जैसे ही क्रेडिट और डेबिट कार्ड स्वाइप करते थे दर्शन फाल्स पेमेंट अलर्ट जनरेट कर देता था. ऐसे में कार्ड का पेमेंट भी दिखाता था और उसके दोस्त के अकाउंट से पैसे भी नहीं कटते थे.

डिजिटल टैब से करता था घपला

बता दें कि अमेजन ने दर्शन को ग्राहकों से पेमेंट लेने के लिए डिजिटल टैब दिया था. इसमें पेमेंट की रिसिविंग के साथ-साथ प्रोडक्ट की डिलिवरी की भी जानकारी मिलती थी. टैब में क्रेडिट/डेबिट कार्ड के स्वाइप की भी व्यवस्था थी. हालांकि, अभी इस बारे में जानकारी नहीं मिली है कि आरोपी कार्ड पैमेंट को कैसे मैनेज करता था.


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


दर्शन सहित 4 गिरफ्तार

मामले के खुलासे के बाद दर्शन सहित चार लोगों को गिरफ्तार किया गया है. वहीं, दो आरोपी अभी फरार हैं. पुलिस उनकी तलाश कर रही है. गिरफ्तार लोगों के पास से 21 स्मार्टफोन, एक लैपटॉप, एक आईपैड, एक ऐपल की घड़ी और चार बाइक बरामद की गई है.

अमेजन के सीनियर मैनेजर ने की थी शिकायत

बता दें कि ये गिरफ्तारी अमेजन के एक सीनियर मैनेजर द्वारा 8 मार्च को बसावनहल्ली थाने में दर्ज कराई गई शिकायत पर हुई है. चिकमंगलौर के एसपी के अन्नामलाई ने कहा, दर्शन को फाल्स अलर्ट के माध्यम से कंपनी में 1.3 करोड़ रुपये धांधली करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है. आरोपियों को गिरप्तार करने के बाद टैब को फॉरेंसिक लैब में जांच के लिए भेजा गया है.