हाईटेक ब्रांडिंग के बाद अब कुंभ बनेगा कमाऊ पूत

प्रयागराज : आस्था के महासागर कुंभ की जिस तरह से प्रदेश सरकार और केंद्र सरकार ने ब्रांडिंग की है, उससे कुंभ अब कमाऊ पूत भी बनने जा रहा है। देश की कई नामचीन कंपनियां यहां आकर अपना प्रचार करना चाहती हैं। ऐसे में मेला प्रशासन ने विज्ञापन नीति तय की है। मेला क्षेत्र से लेकर शहर तक कंपनियों की प्रचार सामग्री का अधिकार मेला प्रशासन ने ले लिया है। जल्द ही इसके लिए ई-टेंड¨रग होगी, जिसमें करोड़ों रुपये की आमदनी के आसार हैं। प्रयागराज के कुंभ में ऐसा शायद पहली बार हो रहा है, जब कुंभ से इतने बड़े पैमाने पर आमदनी की भी उम्मीद जताई जा रही है।

कुंभ मेलाधिकारी विजय किरन आनंद और जिलाधिकारी सुहास एलवाई समेत युवा अफसरों की टीम ने इसके लिए व्यापक रणनीति बनाई है। बेहद रणनीतिक तौर पर इस तैयारी को अंजाम दिया गया। पहले देश से लेकर विदेश तक बड़े पैमाने पर कुंभ की ब्रांडिंग की गई। फिर अब विज्ञापन के जरिए कमाई की तैयारी है। इसके लिए मेलाधिकारी और डीएम ने नगर निगम के अफसरों के साथ मिलकर शहर में विज्ञापन के टेंडर निरस्त कर दिए हैं। अब इसके बाद शहर के सारे होर्डिग बैनर आदि हटा दिए जाएंगे। फिर ई-टेंड¨रग के जरिए जिस कंपनी को भी ठेका दिया जाएगा, उसी के विज्ञापन लगेंगे। मुफ्त में बनेंगे 5000 चेंजिंग रूम

मेला प्रशासन की तैयारी है कि घाटों पर बनने वाले चेंजिंग रूम पर भी प्रचार का अधिकार बेचा जाए। हालांकि इसके लिए बेहद कम स्थान दिया जाएगा। ऐसे में अफसरों को उम्मीद है कि कंपनिया केवल प्रचार के लिए मुफ्त में चेंजिंग रूम बनाएंगी। इस तरह 5000 चेंजिंग रूम बनवाए जाएंगे। विज्ञापन से इस बार अच्छे राजस्व की उम्मीद है। इसके लिए हर चीज पर विज्ञापन की अलग-अलग ई -टेंड¨रग करवाई जाएगी। शहर में भी इसी टेंडर के अधीन होर्डिग बैनर लगाए जा सकेंगे। जिलाधिकारी ने भी निर्देश दिए हैं कि यदि कहीं इसका उल्लंघन पाया गया तो मुकदमा दर्ज कराया जाएगा।


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


loading...

Author: Web Wing

Share This Post On
X