समुद्र में आज भी तैर रहा यह शिवलिंग, महिमा जानकर हैरान रह जायेंगे आप

भगवान शंकर

भगवान शिव की महिमा अपने आप में ही अपार है। कई शिवलिंग आज भी ऐसी दुर्लभ स्‍थानों पर स्‍थापित हैं कि खुद की आंखों पर लोगों को भरोसा नहीं होता। हालांकि इस सच्‍चाई को मानने से भी लोग इनकार नहीं कर सकते। भगवान शंकर का एक दुर्लभ शिवलिंग समुद्र की पानी में तैरता रहता है, यहां जाकर प्रभु के दर्शन करने मात्र से सारे दु:खों और कष्‍टों का निवारण हो जाता है।

भगवान शिव पर फूटा युवक का गुस्‍सा, ग्रामीणों में तनाव

य‍ह स्‍थापित शिवलिंग दुर्लभ स्‍थनों में से एक है। किंवदंती के अनुसार यह शिवलिंग जहां तैरता है, उसी स्‍थान पर रावण की लंका तक पहुंचने के लिए भगवान श्रीराम ने रामसेतु निर्माण किया था। मान्‍यता है कि इसी स्‍थल पर रावण को जीतने के बाद प्रभु श्रीराम ने वीभीषण का राज्‍याभिषेक कराया था।



हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!




भगवान शंकर

 

श्रद्धालुओं को इस शिवलिंग की पूजा के लिए समुद्र में उतरकर जाना होता है।

रामेश्‍वरम से 13 किमी दूर है यह शिवलिंग

से

यह मंदिर रामेश्‍वरम से 13 किमी दूर है और इसे कोथंदारामार मंदिर के नाम से जाना जाता है। यह देश में विभीषण का एकमात्र मंदिर कहा जाता है। समुद्र में स्‍थापित होने के कारण और न डूबने के कारण इस शिवलिंग में लोगों की अपार आस्था है।

सीएम शिवराज सिंह ने राजस्थान से की मध्यप्रदेश के जवानों के लिए ये बड़ी घोषणा

इस शिवलिंग को दूर से देखने के लिए यहां पर दूरबीन का सहारा भी लोग लेते हैं। मान्‍यता है कि यह मंदिर जिन पत्‍थरों से रामसेतु का निर्माण हुआ था उसी पत्‍थरों से बना हुआ है।

loading...
loading...
=>

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*