शिवराज सराकर ने उड़ाया किसानों का मजाक, मुआवजे में बांटे 4 रुपए

मध्‍य प्रदेश में प्रधानमंत्री की फसल बीमा योजना के तहत मिलने वाले लाभ को लेकर किसानों का मजाक उड़ाया गया है। यहां की शिवराज सरकार में किसानों की फसल नष्‍ट होने पर बीमा योजना का लाभ महज 4 रुपए तक बांटा गया है। हैरान करने वाली बात यह है कि किसान मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के गृह जनपद सीहोर के रहने वाले हैं। जानकारी के मुताबिक सीहोर के तिलारिया गांव के 52 किसानों ने सोयाबीन की खेती की थी। लेकिन उनकी फसल पूरी तरह से नष्‍ट हो गई। इसके बाद प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत किसानों को जो सहायता राशि उपलबध कराई गई, वह सभी किसानों को मिलाकर कुल 30621 रुपए 50 पैसे है। इतना ही नहीं फसल बीमा योजना का लाभ देने के बाद प्रमाण पत्र भी किसानों को बांटे गए, जिसमें सीएम शिवराज सिंह चौहान और पीएम नरेन्‍द्र मोदी के फोटो छपे हुए हैं।

फसली ऋण पर छूट के लिए अनिवार्य हो आधार: आरबीआई ने जारी की नोटिस

प्रधानमंत्री की फसल बीमा


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


52 पीडि़त किसानों को राहत पहुंचाने के लिए सबसे बड़ी रकम 194 रुपए 22 पैसे किसान नीला बाई को उनकी 22 एकड़ की फसल नष्‍ट होने के एवज में मिला है।नीला ने फसल बीमा के लिए 5,220 रुपये का प्रीमियम भरा था।

फसल काटने को लेकर दो पक्षों में हुआ खूनी संघर्ष, पुलिस जांच में जुटी

इनको मिले 4 रुपए

गांव के ही किसान उत्तम सिंह की दो एकड़ के खेत में सोयाबीन की फसल नष्‍ट हो गई थी। उन्‍होंने बीमा योजना के लिए 1,342 का प्रीमियम भरा था। जिनको मुआवजे के तौर पर 17 रुपये दिए गए हैं। वहीं, सीहोर जिले के ही रेहती गांव में बादामी लाल नाम के किसान को मात्र 4 रुपए 70 पैसे बीमा दावे के तौर दिए गए। मध्‍य प्रदेश में सीहोर जिले के शेरपुर से फरवरी 2016 में पीएम मोदी ने प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की शुरुआत की थी।

loading...

Author: Shubhendhu Shukla

Share This Post On

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

X