भारत के समुद्र में मिला अनमोल खजाना, तीन साल पहले हा‍थ लगा था सुराग

जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया के वैज्ञानिकों ने मंगलुरु, चेन्नै, मन्नार बसीन, अंडमान-निकोबार और लक्षद्वीप के समुद्र में खजाना खोज निकाला है, जो भारत को वापस सोने की चिडि़या बना सकता है। साल 2014 में इस खजाने के सुराग मिले थे और अब वैज्ञानिकों इन तक पहुंचने के बेहद करीब हैं।

समुद्र में खजाना

दरअसल, यह खजाना समुद्री संसाधन हैं, जिनकी दुनियाभर में भरपूर जरूरत है। ये इतनी बड़ी मात्रा में हैं कि वैज्ञानिक इनकी कुल कीमत भी नहीं निकाल पा रहे हैं।



हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!




वैज्ञानिकों के हाथ लाइम मड, फोसफेट-रिच और हाइड्रोकार्बन्स जैसी चीजें मिली हैं। माना जा रहा है कि पानी की अंदर इनकी मात्रा अंदाज से कहीं ज्यादा है। तीन साल की खोज के बाद जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया ने 1 लाख 81 हजार वर्ग किलोमीटर का हाई रेजोल्यूशन सीबेड मोरफोलॉजिकल डेटा तैयार किया है। इसके मुताबिक, भारत के इन समुद्री इलाकों में 10 हजार मिलियन टन लाइम मड है।

इन समुद्री संसाधनों को खोज निकालने के लिए तीन हाईटेक जहाज उतारे गए हैं। समुद्र रत्नाकर, समुद्र कौस्तुभ और समुद्र सौदीकामा लगातार समुद्र की गहराइयों को तलाश रहे हैं। जीएसआई के जानकारों का कहना है कि हाईटेक जहाजों के जरिए समुद्री संसाधनों के सटीक इलाके खोजे जा रहे हैं। इन संसाधनों की कुल मात्रा भी आकी जा रही है।

loading...
loading...
=>

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*