राष्ट्रपति के अभिभाषण से आज शुरू होगा संसद का बजट सत्र, जेटली का पिटारा 1 फरवरी को खुलेगा

राष्ट्रपति के अभिभाषण के साथ आज बजट सत्र के पहले भाग की शुरुआत होगी. सुबह करीब 11 बजे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद संयुक्त सत्र को सेंट्रल हॉल में संबोधित करेंगे. राष्ट्रपति के अभिभाषण के साथ सरकार इकॉनोमिक सर्वे भी पेश करेगी. बता दें कि केंद्र की मोदी सरकार की यह चौथा पूर्ण बजट है. जीएसटी लागू होने के बाद यह पहला बजट है, वहीं 2019 लोकसभा चुनाव से पहले आखिरी पूर्ण बजट है. इस लिहाज़ से बजट काफी महत्वपूर्ण है, बजट 1 फरवरी को पेश होगा.

बजट 2018 काउंटडाउन: वित्त मंत्री जेटली ने की हलवा सेरिमनी, छपने गया डॉक्यूमेंट

बजट सत्र


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


बतौर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का यह पहला अभिभाषण होगा. राष्ट्रपति का अभिभाषण दरअसल केंद्र सरकार का दस्तावेज होता है जिसमें केंद्र सरकार की पिछले साल की उपलब्धियों के साथ-साथ आगामी वित्तीय वर्ष के लिए सरकार के विज़न, योजनाओं और एजेंडे का खाका होता है. बजट सत्र का पहला भाग 29 जनवरी से 9 फरवरी तक चलेगा, वहीं दूसरा हिस्सा 6 मार्च से 6 अप्रैल तक चलेगा.

राष्ट्रपति भवन से संसद भवन तक राष्ट्रपति अपने अंग रक्षक और घुड़सवार दस्ते के साथ बग्घी या कार से आएंगे. राष्ट्रपति के अभिभाषण के तुरंत बाद उपराष्ट्रपति संक्षेप में अभिभाषण के पहले और आखिरी पैराग्राफ का अंग्रेजी अनुवाद पढ़ेंगे.

संसद के संयुक्त सत्र में ही राष्ट्रपति के अभिभाषण की हिंदी और अंग्रेजी कॉपी महासचिव पटल पर रखेंगे. इसके बाद वित्त मंत्री अरुण जेटली लोकसभा में आर्थिक सर्वे पेश करेंगे. इसके बाद सदन स्थगित हो जाएगा.

आपको बता दें कि हाल ही में एक इंटरव्यू के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ऐसे संकेत दिए थे कि ये बजट लोकलुभावन नहीं होगा. पीएम मोदी ने कहा था कि आगामी आम बजट कोई लोकलुभावन बजट नहीं होगा और सरकार सुधारों के अपने एजेंडे पर ही चलेगी, जिसके चलते भारतीय अर्थव्यवस्था “पांच प्रमुख” कमजोर अर्थव्यवस्थाओं की जमात से निकलकर दुनिया का “आकर्षक गंतव्य” बन गया है.

1 फरवरी यानी गुरुवार को वित्त मंत्री अरुण जेटली आम बजट पेश करेंगे. वित्त मंत्री के साथ इस बजट को तैयार करने में कई लोग लगे हुए हैं. हंसमुख अध‍िया वित्त सच‍िव हैं. 1981 के गुजरात कैडर के आईएएस अधिकारी हैं. बजट टीम में अध‍िया सबसे अनुभवी अध‍िकारी हैं. वह इस साल टीम की अगुवाई कर रहे हैं.

रविवार को बजट सत्र से पहले बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार ने कहा कि सरकार बजट सत्र के दौरान एक बार में तीन तलाक संबंधित विधेयक को पारित कराने का प्रयास करेगी. उन्होंने कहा कि इसके लिए हम सभी दलों से बातचीत करेंगे.

कांग्रेस और टीएमसी नेता भी बैठक में हुए शामिल

इस बैठक में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, गृह मंत्री राजनाथ सिंह, वित्त मंत्री अरुण जेटली, संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार, कांग्रेस के मल्लिकार्जुन खड़गे, सपा नेता मुलायम सिंह, भाकपा नेता डी राजा, टीएमसी के डेरेक ओब्रायन, सुदीप बंदोपाध्याय, द्रमुक की कनीमोई जैसे नेताओं ने हिस्सा लिया.

ये भी देखें:

loading...

Author: Ashutosh Mishra

Share This Post On

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

X