फिर शिवसेना का मोदी पर हमला, नोटबंदी ने ‘ईश्वर’ को भिखारी बना दिया

मुंबई: केंद्र और महाराष्ट्र में बीजेपी की वर्षों पुरानी सहयोगी शिवसेना लगातार सरकार पर हमले करती रही है. एक बार फिर शिवसेना ने मोदी सरकार की नीतियों को निशाना बनाया है. शिवसेना के मुखपत्र सामना में किसान की बदहाली से लेकर आम आदमी और व्यापारियों के बहाने शिवसेना ने नरेंद्र मोदी सरकार पर करारा हमला किया है. मुखपत्र सामना में ‘ईश्वरी वरदान’ शीर्षक में सरकार पर श्रेय लेने की होड़ का आरोप लगाया है. लेख में कहा गया है कि जनता ईश्वर है, लेकिन नोटबंदी के चलते ईश्वर को भी भिखारी बनकर रहना पड़ रहा है.

डेंगू के इलाज का बिल 18 लाख रुपये, फिर भी बच्ची को नहीं बचा पाया फोर्टिस अस्पताल

नोटबंदी से देश की हालत चिंताजनक है. व्यापारियों के पास कैश नहीं है, उन्हें चिल्लर से काम चलाना पड़ रहा है. शिवसेन ने लिखा, “ब्रिटिशों का राज इश्वरणीय वरदान था, ऐसा बयान करने वाले उस समय भी थे. वहीं मोदी- शाह की सरकार को भी ईश्वरणीय वरदान कहने वाले लोगों का उदय हुआ है. अच्छी बरसात हुई तो मोदी सरकार के कारण ही लेकिन विदर्भ के कई जिलों में कपास के फुलों में कीड़े लग गए, जिसके कारण किसान संकट में फंस गए. यह संकट भी मोदी सरकार का इश्वरणीय वरदान है, यह मानने को लोग तैयार नहीं हैं.


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


शिवसेना

लेख में आगे लिखा गया, “ब्रिटिश ने व्यापारी के रूप में देश में ‘तोड़ो फोड़ो और राज करो’ नीति के तहत 150 साल राज किया. व्यापारियों का राज कभी इश्वरणीय नहीं होता. आज की सत्ता जिन्हें ईश्वरीय वरदान लगती है वह ईश्वर का अपमान करना रोकें. जनता ही ईश्वर है, और ईश्वर भिखारी हो गया है.” संपादकीय में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के साथ महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री फडणवीस को भी निशाने पर लिया है. संपादकीय के मुताबिक देश किन हालतों से गुजर रहा है इसकी परवाह नहीं है, लेकिन करोड़ों रुपये खर्च करके विज्ञापनबाजी थमने का नाम नहीं ले रही है.

लेख में शिवसेना की ओर से लिखा गया, ”बुलेट ट्रेन मोदी सरकार का वरदान है, लेकिन मालाड में जो दुर्घटना हुई उसका श्रेय लेने को सरकार कि तरफ से कोई नही आया. इस बात का आश्चर्य है की 17 वर्ष के बाद हिंदुस्तान ने विश्व सुंदरी का खिताब जीता, उस हरियाणवी कन्या का नाम मानुषी छिल्लर है. अब मानुषी ने विश्व सुंदरी खिताब जीतकर देश कि शान बढाई वो सरकार के कारण ही ? इसका श्रेय सरकार ने क्यों नहीं लिया ? यह आश्चर्य कि बात है.”

loading...

Author: Vineet Verma

Share This Post On

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

X
loading...