नागपंचमी के पहले घर में निकले 50 नाग, संपेरे ने खोला अनोखा राज

गाजीपुर। वैसे तो सांपों को देखकर लोगों के होश उड़ जाते हैं। लेकिन सावन के महीने में नागपंचमी के पहले कई सांप अपने बिल से निकलकर आये तो नागदेवता के दर्शन के लिए भीड़ लग गई। हालांकि कुछ लोग इस वाकया से भयभीत भी हुए और दहशत में हैं। लेकिन संपेरे ने बताया कि नागपंचमी पर नागों की कृपा बरसती है। यदि आप नाग देवता को नुकसान नहीं पहुंचाते हैं तो  वह भी किसी का कुछ नहीं बिगाड़ते हैं।

चमत्कार! शिवलिंग पर जल की धारा से बनी नाग देवता की आकृति

संपेरे ने बताया कि सावन के महीने में यदि नाग देवता कहीं भी दिखे तो उनको सच्‍चे दिल से प्रणाम करके मन्‍नते मांगनी चाहिए और उनकी पूजा करनी चाहिए। नाग देवता इस अवसर पर प्रसन्‍न होते हैं।



हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!




नागपंचमी

यह वाकया गाजीपुर जिले में मरदह क्षेत्र के बोगना गांव का है। यहां एक घर में लोगों के बीच संपेरा पहुंच गया। संपेरे को देखकर वहां लोगों की भीड़ एकत्रित हो गई और सभी नाग देवता की महिमा का गुणगान सुनने लगे।

इसी समय संपेरे ने लोगों को यह भी बताया कि यहां एक घर में नाग देवता विराज मान हैं और उनका पूरा परिवार भी रहता है। लेकिन लोगों को संपेरे की बात पर भरोसा नहीं हुआ। इसके बाद संपेरे ने बीन बजाना शुरू कर दिया। बीन की आवाज सुनते ही घर से एक-एक करके 50 नाग बिल से बाहर आ गये। एक एक करके सांपों को निकलता देख ग्रामीणों के होश उड़ गए। घर से सांपों का जखीरा निकलता देख वहां मौजूद लोगों को भी इस बात की चिंता सताने लगी की कहीं उनके भी घर में नाग देवता विराज तो नहीं हैं।

जापानी टीवी सीरीज ने गणेश को दिखाया ‘बुराई का देवता’, अमेरिका में विरोध

घर के ही एक बुजुर्ग ने संपेरे को बताया कि उसको सावन माह लगते ही नाग देवता घर में दिखे थे। इसके बाद अचानक गायब हो गए। बहुत देर तक खोजबीन करने के बाद भी नाग देवता का पता नहीं चला। इतना ही नहीं घटना के दो दिन बाद ही उनकी पत्‍नी के पैर पर चढ़ गया था। लेकिन कोई नुकसान नहीं पहुंचाया और दुबारा अदृश्‍य हो गया।

नागपंचमी

बुजुर्ग ने बताया कि इधर कुछ दिनों में लगातार उनके घर वालों को नाग देचता के दर्शन हो रहे थे।  इसके बाद घर में काफी पूजा पाठ कराई गई। तो कुछ दिनों तक सांप नहीं दिखे। लेकिन फिर उनकी पत्‍नी को अचानक एक दिन नाग और नागिन दिखा। इसके बाद घर वालों ने जानकार संपेरे को बुलाया।

क्या आप जानते हैं देवी-देवताओं को क्यों चढ़ाते हैं प्रसाद

बताते हैं कि संपेरे के घंटो बीन बजाने के बाद कई सांप के बच्‍चे अपने बिल से बाहर निकलकर आ रहे थे। सबसे अंत में विशाल नगा बाहर निकल कर आया। जिसे देखकर लोग घबरा गये। पहले तो संपेरे ने नाग देवता को प्रणाम किया और बाद में काफी मशक्‍कत करने के बाद उस पर काबू पाया और अपने साथ लेकर चला गया।

रहस्‍यमयी है सांप और बीन के बीच का खेल

सांप बीन की आवाज सुनकर अपने घर से बाहर निकलकर क्‍यों आते हैं यह बात आज भी रहस्‍यमयी बनी हुई है। साइंटिफिक दृष्टिकोण से भी इस रहस्‍य का पर्दा नहीं उठा सका है। चिडि़याघर के एक विशेष की मानें तो बीन से सांप बाहर आ ही नहीं सकते हैं। संपेरों को सांपों क बारे में विशेष जानकारी होती है और वह उसकी जगह पर जाते हैं जहां उनको इस बात की जानकारी होती है।

रहस्यमयी बना यह मकान, पुलिस ने तोड़े ताले तो उड़ गये होश

इसके बाद उस स्‍थान पर संपेरे अजीब बीन बजाने के बाद अजीब हरकतें भी करते हैं। शोर शराबा करना, लाठी डंडों को सांपो वाली जगह पर पटकने जैसी हरकतों को भी वह किया करते हैं। इन अजीब सी हरकतों को करने पर वह आहट महसूस करते हैं और बाहर निकल आते हैं। सांप के कान नहीं होते हैं, इसलिए वह मात्र बीन बजाने से कभी भी बाहर नहीं निकलते सकते।

हालांकि अभी तक यह स्थिति अभी तक साइंटिफिक भी प्रूव नहीं हो पई है कि बीन बजाने से ही सांप निकलते हैं या अन्‍य किसी और कारण से।

loading...

Author: Shubhendhu Shukla

Share This Post On

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

X