जानिये 29 जनवरी को अपने घर में खुशियों की एंट्री का समय

हर दिन कुछ कहता है। दिन विशेष के लिए राशियों की भाषा अलग-अलग होती है। आपकी राशि आपके लिए क्या कहती है, आपको इसे जानने की प्रबल इच्छा रहती है। 29 जनवरी को घर में खुशियों की एंट्री का क्या समय होगा, आइये जानते हैं। इसके अलावा ये भी कि आपकी राशि 29 जनवरी के बारे में क्या कहती है। इसके अतिरिक्त 29 जनवरी के दिन का शुभ मुहूर्त भी जानना चाहिए ताकि आप अपने शुभ कार्यों को उस समय में प्राम्भ कर सकें और अपने जीवन को सुखमय बना सकें।

21 दिसम्बर

जानिया क्या कहते हैं आपके सितारे… जानने के लिए पढ़ें अपना राशिफल

◆ 29 जनवरी 2018 का पंचांग◆

दिन-सोमवार


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


ऋतु-शिशिर

माह-माघ

सूर्य-उत्तरायण

सूर्योदय-06:35

सूर्यास्त-05:25

राहूकाल(अशुभ समय)प्रातः 07:30 से 09:00 बजे तक

तिथि-त्रयोदशी

पक्ष-शुक्ल

दिशाशूल-पूर्व व उत्तर

शुभदिशा-पश्चिम व दक्षिण

अभिजितमुहूर्त-दोपहर 12:12 से 12:56तक

अमृतमुहूर्त-प्रातः07:11 से 08:32तक।

29 जनवरी को राशियों का प्रभाव

मेष:-

आज आपके आय के साधनों में वृद्धि हो सकती है। पारिवारिक असहयोग का सामना करना पड़ सकता है।यात्रा से मध्यम लाभ होगा।

सुझाव:-आज आप भगवान शिव को दूध अर्पित करें।

राशिरत्न:-मूंगा

शुभरंग:-लाल

वृष:-

आप का व्यापार उत्तम रहेगा। मान सम्मान में वृद्धि होगी। पारिवारिक सहयोग मिलेगा। रुके कार्य पूर्ण होंगे। सुदूर यात्रा के योग बन सकते है।

सुझाव:-आज आप लाल चंदन डाल कर सूर्यार्घ दें।

राशिरत्न:-हीरा,ओपल

शुभरंग:-पीला

मिथुन:-

आज आपको व्यापर में अधिक परिश्रम के उपरांत मध्यम लाभ मिल सकता है। व्यर्थ के विवाद से मन दुःखी हो सकता है। यात्रा सुखद होगी।

सुझाव:-आज आप श्वेत वस्त्र का दान करें।

राशिरत्न:-पन्ना

शुभरंग:-श्वेत

कर्क:-

आज आपको मित्रों का सहयोग मिलेगा। मानसिक चिंता से निजाद पा सकेंगे। व्यापर सामन्य रहेगा। विदेश से धुभ समाचार प्राप्त हो सकता है।

सुझाव:-आज आप रामनामी भगवान शिव को अर्पित करें।

राशिरत्न:-मोती

शुभरंग:-पीला

सिंह:-

आज आप के प्रायःकार्यों में रुकावटें आ सकती हैं। घर के सदस्यों पर धन व्यर्थ खर्च हो सकता है।भूलने की वजह से कोई कीमती वस्तु गुम हो सकती है।व्यावसाय में आंशिक लाभ के योग हैं।

सुझाव:-आज आप धतूरे के फल व फूल से शिवार्चन करें।

राशिरत्न:-माणिक्य

शुभरंग:-केशरिया

कन्या:-

आज का दिन आपका अन्य दिनों से बेहतर रह सकता है। मितों का सहयोग मिलेगा। व्यवसायिक साझेदारों द्वारा लाभ मिलेगा। व्यक्ति विशेष से सम्मान मिलेगा। जीवनसाथी का सहयोग मिल सकता है।

सुझाव:-आज आप गरीबों में दही चावल ,चीनी बाटें।

राशिरत्न:-पन्ना

शुभरंग:-हरा

तुला :-

आज आपका दिन मध्यम फल दाई रहेगा। व्यापार में उन्नति मिलेगी। ओरिवरिक सहयोग से बिगड़े कार्य सम्हलेगा, सन्तान पक्ष से यशलाभ मिलेगा ।यात्रा से परमार्थ होगा।

सुझाव:-आज आप भगवती पार्वती माँ को हरा वस्त्र अर्पित करें।

राशिरत्न:-हीरा, ओपल

शुभरंग:-बादामी

वृश्चिक:-

आपका व्यापार उत्तमोत्तम रहेगा। व्यर्थ लॉगऑन से दूरी बनाएं। धीरेे -धीरे स्वास्थ्य लाभ मिलेगा। शैक्षिक कार्यों में अड़चनों का सामना करना पड़ सकता है। यात्रा से सामान्य लाभ मिल सकता है।

सुझाव:-आज आप शमी पत्र से भगवान शिव का अर्चन करें।

राशिरत्न:-मूंगा

शुभरंग:-नीला

धनु:-

आज आपको व्यवहार से व्यापार में उन्नति दिखेगी।कटु वचनों का प्रयोग न करें। कानूनी कार्यों में काफी हद तक सकारात्मक निर्णय आपके पक्ष में रहेगा। पारिवारिक वातावरण उत्तम रहेगा।

सुझाव:-आज आप पंचामृत से भगवान शिव का अभिषेक करें।

राशिरत्न:-पुखराज

शुभरंग:-पीला

मकर:-

आज आपके सोचे कार्यों में द्रुत गति से प्रगति होगी। व्यापारिक दृष्टिकोण से आज का दिन आपके अनुकूल रहेगा। मां सम्मान में वृद्धि होगी। वाहन चलाते समय से सावधन रहें। शैक्षिक कार्यों में सफलता के योग हैं।

सुझाव:-आज आप पंछियों को दाना खिलावें।

राशिरत्न:-नीलम

शुभरंग:-सुनहला

कुंभ:-

आज आपका दिन मिला जुला कर उत्तम रहेगा। व्यापार में मनोनुकूल सफलता मिलेगी, भाइयों जा सहयोग मिलेगा। पैतृक संपत्ति भी प्राप्त हो सकती है। अपने जमीनी कागजातों की सुधी स्वयं करें । यात्रा से सामान्य लाभ की संभावना है।

सुझाव:-आज आप अनार का भोग भगवती दुर्गा को लगावें।

राशिरत्न:-नीलम

शुभरंग:-आसमानी

मीन:-

आज आपका दिन व्यापारिक सफलता तो देगा किंतु मानसिक तनाव भरा माहौल बना रह सकता है। धार्मिक कार्यों में मन लगाना श्रेष्ठ होगा। संतान से यश मिलेगा। यात्रा में व्यवधान का सामना करना पड़ सकता है।

सुझाव:-आज आप कन्या पूजन करें व कन्याओं को भोजन करावें।

राशिरत्न:-पुखराज

शुभरंग:-फिरोजी

।।आज के दिन का विशेष महत्व।।

1. आज शिशिर ऋतु माघ माह शुक्लपक्ष त्रयोदशी तिथि है।
2. आज सोमप्रदोष है।

।।प्रेरणा दाई चौपाई।।

राम लखन सिय पद सिरु नाई।
फिरेउ बनिक जिमि मूर गवाँई।।

अर्थ:-मंत्री वर सुमन्त जी अब व्याकुल होकर श्री राम लक्ष्मण सीता जी की ओर निहारते है और कर्म गति की प्रबलता को मानते हुवे उन तीनों लोगों के चरणों मे सिर झुकाकर जैसे कोई बनिया अपना मूल भी गवाँ कर घर लौटे वैसे ही मंत्रीवर सुमन्त जी बिना प्रभू राम ,लखन व सीता जी के श्री अयोध्या को वापस हुवे।

“अस्तु वास्तविक धन तो परिवार ही होता है अपने ही होते हैं परिवार का विलग होना ही वास्तव में निर्धनता होती है।”

।।वास्तु टिप विशेष।।

शयन कक्ष के बाहर दरवाजे पर बगुवा दर्पण लगाना चाहिए यह नकारात्मक ऊर्जा का निवारण करता है अर्थात दूर करता है यह दर्पण लाल धागे में बांध कर लटकाना चाहिए।

।।इति शुभम्।।

।।आचार्य स्वामी विवेकानन्द।।
।।ज्योतिर्विद, वास्तुविद व सरस् कथा व्यास।।
।।श्री अयोध्या धाम।।
संपर्कसूत्र-9044741252

ये भी देखें:

loading...

Author: Ashutosh Mishra

Share This Post On

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

X