कासगंज में कर्फ्यू के बावजूद उपद्रव जारी, दुकानों में लगाई आग, साध्वी प्राची धरने पर बैठीं

गणतंत्र दिवस पर तिरंगा यात्रा के दौरान एटा जिले के कासगंज में हुई हिंसा के बाद शनिवार को भी असमाजिक तत्वों ने खूब उपद्रव किया। पुलिस की मौजूदगी में ही उपद्रवियों ने चार दुकानों में आग लगा दी। कासगंज आ रही एक बस में भी आग लगाने की कोशिश की गई। एक धार्मिक स्थल पर भी आग लगा दी गई, जिसे पुलिस ने तुरंत बुझा दिया। इसके बाद सरकारी अमले में हडकंप मच गया और अलीगढ़ के कमिश्नर मौके पर पहुंचे। जिले में आरपीएफ की कड़ी टुकडि़यों ने फ्लैग मार्च किया।

कासगंज

हिंसा के बाद अभी भी कासगंज में कर्फ्यू जारी है। झड़प के दौरान मारे गए युवक चंदन गुप्ता के अंतिम संस्कार में शामिल होने जा रही साध्वी प्राची को अलीगढ़ जिले के सिकंदराराऊ में पुलिस ने रोका। गुस्साई साध्वी प्राची ने वहीं पंत चौराहे पर धरने पर बैठ गई। पुलिस ने उन्हें समझाने की बहुत कोशिश की लेकिन वह मानने को तैयार नहीं है।


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


एतिहातन के तौर पर कासगंज की ओर आने वाले सभी वाहनों को रोक दिया गया। कासगंज की सीमा पर चौकसी बढ़ा दी गई है।

छावनी में तब्दील शहर

उपद्रव के बाद पूरा शहर कर्फ्यू की जद में आ गया। जगह-जगह गली मोहल्लों में सुरक्षा के लिए पुलिस फोर्स तैनात कर दी गई है। शहर छावनी में तब्दील कर दिया गया। मौके पर पहुंचे डीएम को विरोध का सामना करना पड़ा।

शहर के उपद्रव के बाद एसपी सुनील कुमार सिंह ने कासगंज कोतवाली, सोरों, गंजडुंडवारा, अमांपुर, सिढ़पुरा, पटियाली, ढोलना समेत थानों से पुलिस फोर्स शहर में तैनात कर दी। इसके अलावा एटा, हाथरस, अलीगढ़ रेंज से पुलिस फोर्स बुलाया गया है।

कुछ समय बाद ही आईजी रेंज अलीगढ़ और कमिश्नर के कासगंज शहर पहुंचने की सूचना मिली है। पूरे शहर में बाजारों में सन्नाटा पसर गया है।

योगी राज में कानून व्यवस्था पर उठे सवाल, विरोध में सपा कार्यकर्ताओं का हल्ला बोल

पुलिस के वाहन माइकों से घोषणा कर लोगों से अपने अपने घरों में जाने की सूचना प्रसारित कर रहे हैं। इसी दौरान बिलराम गेट पर रुके डीएम आरपी सिंह को लोगों के आक्रोश का सामना करना पड़ा। लोग सुरक्षा व्यवस्था को लेकर कड़े तेवर में डीएम को खरी खरी सुना गये।

loading...

Author: Akash Trivedi

Share This Post On
X