एक लाख करोड़ की बुलेट ट्रेन का शुभारंभ, जानिए 15 महत्वपूर्ण बातें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और जापान के पीएम शिंजो आबे ने अहमदाबाद में देश के पहली बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट का शिलान्यास कर दिया है। यह प्रोजेक्ट करीब 1 लाख करोड़ रुपए का है, बुलेट ट्रेन का यह प्रोजेक्ट अहमदाबाद से मुंबई तक का है। सरकार की ओर से कहा गया है कि इस प्रोजेक्ट को निर्धारित समय से एक साल पहले यानी 2022 में पूरा किया जाएगा। पीएम मोदी ने कहा, आजादी के 70 साल बाद इस प्रोजेक्ट का भूमि पूजन हुआ है। जब 2022 में आजादी के 75 साल पूरे होंगे तब मैं और शिंजो आबे बुलेट ट्रेन में एक साथ बैठेंगे।

‘किंग ऑफ़ रोमांस’ को पसंद हैं टेक्निकल फिल्में, नए प्रोजेक्ट ने खोले राज़

बुलेट ट्रेन



हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!




टेक्नोलॉजी जापान से मिल रही है, लेकिन बुलेट ट्रेन के संसाधन भारत में ही बनेंगे। देश की कंपनियों को नया रोजगार मिलेगा और मेक इन इंडिया को बल मिलेगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि जब मैं गुजरात का सीएम था तो लोग कहते थे कि मोदी बुलेट ट्रेन कब लाएंगे, अब बुलेट ट्रेन आ गई है तो लोग कह रहे हैं कि बुलेट ट्रेन क्यों ला रहे हो। जापान ने भारत को नई सौगात दी है। इस हाई स्पीड रेलवे सिस्टम से ना सिर्फ दो जगहों के बीच दूरी कम होगी बल्कि 500 किलोमीटर दूर बसे दो शहरों के लोग भी और पास आएंगे।

लगातार बढ़ रहे हैं डेंगू के मामले, पांच और लोगों में हुई पुष्टि

 

बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट की 15 महत्वापूर्ण बातें

  1. देश में बुलेट ट्रेन का सपना सच होने जा रहा है। मुंबई-अहमदाबाद के बीच जापान की अत्याधुनिक तकनीक से कॉरिडोर को बनाया जा रहा है।
  2. यह तकनीक 15 विकसित देशों में लागू है।
  3. बुलेट ट्रेन चलने से मुंबई-अहमदाबाद के बीच सात-आठ घंटे का सफर मात्र दो घंटे में तय हो जाएगा।
  4. हाईस्पीड कॉरिडोर बनने के बाद देश की आर्थिक प्रगति तेजी से होगी, जो पिछले चार-पांच दशकों में पीछे रह गई थी।
  5. बुलेट ट्रेन शुरू होने से रोजगार के नए अवसर, उद्योग और व्यापार के नए अवसर पैदा होंगे।
  6. बुलेट ट्रेन की नई तकनीक से देश को नई दिशा मिलेगी।
  7. मुंबई-अहमदाबाद से बीच कॉरिडोर बनने के साथ अन्य प्रस्तावित हाईस्पीड कॉरिडोर पर काम शुरू हो जाएगा। लिहाजा अगले कुछ वर्षो में भारतीय रेलवे की प्रगति में व्यापक पर्वितन आएगा।
  8. प्रधानमंत्री मोदी की अगुवाई में वर्ष 2014 में सरकार बनने के बाद भारत में बदलाव का दौर शुरू हुआ है।
  9. जापान ने अपनी तकनीक के साथ मुंबई-अहमदाबाद हाईस्पीड कॉरिडोर बनाने में रुचि दिखाई है और एक लाख करोड़ रुपए का ऋण मात्र 0.1 प्रतिशत के आसान ब्याज पर देने को तैयार हुआ है।
  10.  एक लाख करोड़ के लिए वर्ष में केवल सौ करोड़ रपए का ब्याज देना पड़ेगा।
  11. 14 सितम्बर को परियोजना की शुरुआत के लिए अहमदाबाद में भूमि पूजन होने के बाद निर्माण कार्य शुरू हो जाएगा।
  12. अहमदाबाद का स्टेशन साबरमती में बनेगा जबकि बडोदरा में हाईस्पीड कॉरिडोर में कार्य करने वाले कर्मचारियों का इंस्टीट्यूट बनाया जाएगा।
  13. सितम्बर में भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। हालांकि कॉरिडोर का अधिकतर हिस्सा एलिवेटेड होगा।
  14. परियोजना का कार्य 15 अगस्त 2022 को पूरा हो जाएगा।

loading...

Author: Vineet Verma

Share This Post On

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

X