न के बावजूद वेंकैया को बनाया उप राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार, जानिये वजह

सत्तारूढ़ राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के उप राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के तौर पर सोमवार को केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री एम. वेंकैया नायडू का नाम तय कर दिया। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) संसदीय बोर्ड की मीटिंग में सोमवार शाम को यह फैसला लिया गया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अगुवाई में यह मीटिंग हुई।

उपराष्ट्रपति चुनाव: कांग्रेस ने खेला बड़ा दांव, लगायी गांधी के पोते पर मुहर 

उप राष्ट्रपति पद

पार्टी सूत्रों के अनुसार, उप राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के तौर पर नायडू के नाम को पहले ही अंतिम रूप दिया जा चुका था। इस पद के लिए महाराष्ट्र के राज्यपाल सी. विद्यासागर राव के नाम पर भी विचार हो रहा था। लेकिन सभी की पहली पसंद नायडू थे।

उप राष्ट्रपति का चुनाव 5 अगस्त को होना है। उप राष्ट्रपति पद के लिए नामांकन पत्र दाखिल करने की अंतिम तिथि 18 जुलाई है। उप राष्ट्रपति व राज्यसभा के सभापति हामिद अंसारी का कार्यकाल 10 अगस्त को समाप्त हो रहा है।

हालांकि हाल में नायडू ने एक इंटरव्यू में कहा था कि उन्हें उप राष्‍ट्रपति बनने की इच्छा नहीं। वह जनता के बीच रहकर उनसे जुड़े काम करना ज्यादा पसंद करते हैं।

तब नायडू ने दो टूक कहा था कि अगर उनसे उप राष्‍ट्रपति पद संभालने के लिए कहा गया तो वह साफ इनकार कर देंगे।

हालांकि राजग के दबाव और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अनुरोध के बाद वेंकैया नायडू पीछे नहीं हट सके।

loading...
loading...
=>

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*