आपरेशन के बाद पहली बार राज्यसभा पहुंचे अरुण जेटली!

नई दिल्ली: केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली मई में किडनी प्रत्यारोपण के बाद गुरुवार को पहली बार राज्यसभा की बैठक में शामिल हुए। जेटली उच्च सदन के नेता भी हैं। मई में उनके किडनी का प्रत्यारोपण हुआ था। उस समय वित्त और कार्पोरेट मामलों का मंत्रालय उनके पास था। उनके अस्वथ होने के कारण दोनों मंत्रालय अस्थायी तौर पर पीयूष गोयल को सौंप दिया गया था।

उल्लेखनीय है कि सदन में उपसभापति पद के लिए चुनाव हुआ जिसमें राजग उम्मीदवार हरिवंश निर्वाचित हुए। सभापति एम वेंकैया नायडूए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, सदन में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद और कई अन्य नेताओं ने जेटली के पूर्ण स्वस्थ होने की कामना की। जदयू के राज्यसभा सदस्य हरिवंश को विपक्ष की ओर से कांग्रेस के उम्मीदवार बीके हरिप्रसाद को मिले 105 मतों के मुकाबले 120 मत मिले।

सदन की कार्यवाही शुरु होने पर सभापति एम वैंकेया नायडू ने सदन पटल पर आवश्यक दस्तावेज रखवाने के बाद उपसभापति पद की चुनाव प्रक्रिया शुरु करवाईण् हरिवंश के पक्ष में 125 और हरिप्रसाद के पक्ष में 105 मत पड़े। मतदान में दो सदस्यों ने हिस्सा नहीं लिया सदन में कुल 232 सदस्य मौजूद थे। हरिवंश के पक्ष में जदयू के आरसीपी सिंह, भाजपा के अमित शाहए शिवसेना के संजय राउत और अकाली दल के सुखदेव सिंह ढींढसा ने प्रस्ताव किया,वहीं हरिप्रसाद के लिए बसपा के सतीश चंद्र मिश्रा, राजद की मीसा भारती, कांग्रेस के भुवनेश्वर कालिता, सपा के रामगोपाल यादव और राकांपा की वंदना चव्हाण ने प्रस्ताव पेश किया इन प्रस्तावों पर मतविभाजन के बाद सभापति नायडू ने हरिवंश को उपसभापति निर्वाचित घोषित किया।


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


इसके बाद हरिप्रसाद ने हरिवंश को उनके स्थान पर जाकर बधाई दी। नेता सदन अरुण जेटली नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद, संसदीय कार्यमंत्री अनंत कुमार और संसदीय कार्य राज्यमंत्री विजय गोयल ने हरिवंश को बधाई देते हुए उन्हें उपसभापति के निर्धारित स्थान पर बिठाया। इसके बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने हरिवंश को शुभकामनायें देते हुए उनके विभिन्न क्षेत्रों के अनुभव के हवाले से उनके निर्वाचन को सदन के लिये गौरव का विषय बताया। उल्लेखनीय है कि कांग्रेस सदस्य पी जे कुरियन के पिछले महीने सेवानिवृत्त होने के बाद उपसभापति का पद खाली हुआ था।

loading...

Author: Web_Wing

Share This Post On
X