‘आधार’ ने मारी बाजी, पीएम मोदी के ‘मित्रों’ और ‘नोटबंदी’ रह गए पीछे

ऑक्सफोर्ड डिक्शनरीज ने साल 2017 का हिंदी शब्द आधार चुना गया है. यह शब्द आधार कार्ड को लेकर प्रचलित हुआ है, जो पिछले साल सुर्खियों में बना रहा और इस साल भी इसके खबरों में बने रहने की भरपूर संभावना है.

अब आधार कार्ड के लिए नहीं पड़ेगा भटकना, फरवरी से डाकघरों में बनेगा मुफ्त

साल 2017 का हिंदी शब्द


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेस इंडिया के प्रबंध निदेशक शिवरामाकृष्णन वीके ने कहा- ‘हम अत्यंत उल्लास के साथ पहले ऑक्सफोर्ड डिक्शनरीज ‘वर्ष का हिंदी शब्द’ की घोषणा कर रहे हैं.’ यह घोषणा यहां जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल में की गई है.

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार मित्रों, नोटबंदी, गौ-रक्षक जैसे शब्दों पर भी विचार किया गया, लेकिन ‘आधार’ व्यापक चर्चा और बहस के कारण इसे साल का शब्द चुना गया.

फर्जी दस्तावेजों के आधार पर पासपोर्ट बनवाने वाले को एटीएस ने किया गिरफ्तार

लेखक पंकज दुबे ने कहा कि ‘स्लीपावस्था’ (शयनावस्था), ‘मौकाटेरियन (मौकापरस्त) जैसे शब्द भी खास भाव को व्यक्त करने के लिए गढ़े जाने चाहिए, लेकिन चित्रा मुदगल ने इस सुझाव का विरोध करते हुए कहा कि भाषा का सही प्रयोग होना चाहिए.

कवि और लेखक अशोक वाजपेई ने कहा कि राजनेता हिंदी के शब्द ‘मित्रों’ का इस्तेमाल करते हैं, जबकि सही शब्द ‘मित्रो’ है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने भाषणों में अक्सर इस शब्द का इस्तेमाल करते हैं.

ये भी देखें:

loading...

Author: Ashutosh Mishra

Share This Post On
X